मदरबोर्ड क्या है? MOTHERBOARD IN HINDI?

Rate this post

मदरबोर्ड क्या है? MOTHERBOARD IN HINDI-आज कल कंप्यूटर और अन्य इलेक्ट्रॉनिक device की जानकारी होना बहुत आवश्यक है, जैसे जैसे विज्ञान ने तररकी की है, इलेक्ट्रॉनिक device भी बेहतर होते गए है। कंप्यूटर सबसे ज्यादा इस्तेमाल किये जाने वाले इलेक्ट्रॉनिक device मे से एक है, अकसर हमें स्कूलों, अस्पतालों, फैक्ट्री, या फिर कुछ दुकानों मे कंप्यूटर दिखाई देते है। डिजिटलीकरण के कारण कंप्यूटर की जानकारी होना बहुत आवश्यक है, इसके साथ साथ कंप्यूटर के पार्ट्स की बेसिक जानकारी भी आवश्यक है। कंप्यूटर के सबसे जरुरी पार्ट मे से एक मदरबोर्ड भी है, जिसकी जानकरी बहुत कम लोगो के पास होती है, अगर आप भी जानना चाहते है कि मदरबोर्ड क्या है तो आप बिल्कुल सही स्थान पर है। इस आर्टिकल से आप मदरबोर्ड से जुड़ी सभी जरूरी जानकारी पा सकते है।

मदरबोर्ड क्या है?

MOTHERBOARD KYA HAI?

मदरबोर्ड एक प्रकार का पीसीबी अर्थात प्रिंटेड सर्किट बोर्ड होता है, जिस पर कंप्यूटर के अलग-अलग हार्डवेयर कंपोनेंट को जोड़ा जा सकता है। मदर बोर्ड को सिस्टम बोर्ड, लॉजिक बोर्ड, मेन बोर्ड या बेस बोर्ड भी कहा जा सकता है। मदरबोर्ड एक प्रकार से कंप्यूटर की रीड की हड्डी होता है, मदर बोर्ड के बिना कंप्यूटर को इस्तेमाल कर पाना मुमकिन नहीं है। मदर बोर्ड में अलग-अलग प्रकार के सॉकेट और पोर्ट होते हैं जिनका इस्तेमाल कर अलग-अलग प्रकार के कंपोनेंट को मदर बोर्ड में जोड़ा जा सकता है। मदर बोर्ड से जुड़ने के बाद ही सभी प्रकार के हार्डवेयर कंपोनेंट अपना काम कर पाते हैं।

मदर बोर्ड मैं उपलब्ध स्लॉट और पोर्ट

कंप्यूटर को चलाने के लिए अलग-अलग प्रकार के हार्डवेयर तथा डिवाइस की आवश्यकता होती है, मदर बोर्ड से इन सभी हार्डवेयर तथा डिवाइस को कनेक्ट करने के बाद ही कंप्यूटर अच्छे से कार्य करता है। मदरबोर्ड मैं बहुत से सॉकेट और पोर्ट उपलब्ध होते हैं जिनका इस्तेमाल कर अलग-अलग प्रकार के कंपोनेंट को मदरबोर्ड से जोड़ा जा सकता है, मदर बोर्ड में उपलब्ध स्लॉट और पोर्ट की जानकारी नीचे दी गई है-

माउस पोर्ट क्या है?

मदरबोर्ड से माउस को कनेक्ट करने के लिए मदरबोर्ड में एक पोर्ट दिया गया होता है जोकि हरे रंग का होता है, यह पोर्ट गोल होता है और इस पर माउस को कनेक्ट करने के लिए कुछ छेद दिए गए होते हैं।

कीबोर्ड पोर्ट क्या है?

कीबोर्ड पोर्ट भी माउस के पोर्ट के जैसा ही होता है, कीबोर्ड पोर्ट का रंग बैगनी होता है और इसका उपयोग मदर बोर्ड से कीबोर्ड को जोड़ने के लिए किया जाता है।

वीजीए पोर्ट क्या है?

वीजीए पोर्ट वीडियो ग्राफिक्स ऐरे पोर्ट होता है, इस पोर्ट का इस्तेमाल किसी भी प्रकार की डिस्प्ले को मदरबोर्ड से जोड़ने के लिए किया जा सकता है। इस का इस्तेमाल कंप्यूटर पर दिखाई जा रहे वीडियो ग्राफिक्स को अन्य स्क्रीन पर दिखाने के लिए किया जा सकता है।

परल्लेल पोर्ट क्या है?

परल्लेल पोर्ट एक चौड़ा और लंबा पोर्ट होता है, इस पोर्ट का इस्तेमाल प्रिंटर और स्कैनर को मदरबोर्ड से जोड़ने के लिए किया जाता है। इस पोर्ट की सहायता से कंप्यूटर में आसानी से प्रिंटर या स्केनर का प्रयोग किया जा सकता है।

यूएसबी पोर्ट क्या है?

यूएसबी पोर्ट एक ऐसा कौन है जिसको मदर बोर्ड से पेन ड्राइव, एक्सटर्नल हार्ड डिस्क, मोबाइल फोन, या फिर अन्य प्रकार के डिवाइस को जोड़ने के लिए बनाया गया है। इस पोर्ट का इस्तेमाल कर अलग-अलग प्रकार के स्टोरेज डिवाइसों का प्रयोग आसानी से किया जा सकता है।

लेन केबल पोर्ट क्या है?

कंप्यूटर में अगर इंटरनेट की आवश्यकता होती है, कंप्यूटर को लोकल एरिया नेटवर्क से जोड़ने के लिए मदरबोर्ड में लेन केबल पोर्ट बनाया गया है, इस पोर्ट का इस्तेमाल इथरनेट केबल को मदर बोर्ड से जोड़ने के लिए किया जाता है, जिससे कि कंप्यूटर में इंटरनेट इस्तेमाल किया जा सके।

ऑडियो पोर्ट क्या है?

ऑडियो पोर्ट हमारे मोबाइल फोन में दिए गए 3.5 एमएम हेडफोन जैक के जैसा ही होता है, सामान्यतः मदर बोर्ड में तीन ऑडियो पोर्ट दिए जाते हैं जिनका इस्तेमाल मदरबोर्ड में माइक या स्पीकर को जोड़ने के लिए किया जा सकता है और इसके बाद कंप्यूटर से ऑडियो के लिए इन डिवाइसों का प्रयोग किया जा सकता है।

सीएमओएस बैट्री पोर्ट क्या है?

सीएमओएस बैट्री पोर्ट मदर बोर्ड के सबसे जरूरी पोर्ट में से एक है, इस पोर्ट में सिक्के के आकार का बटन सेल लगाना होता है जो कि कंप्यूटर बंद होने पर भी काम करता है। इस बैटरी के कारण कंप्यूटर में सेट किया गया समय कंप्यूटर बंद होने पर भी नहीं रुकता।

फ्लफी पोर्ट क्या है?

फ्लफी पोर्ट का इस्तेमाल मदरबोर्ड से फ्लॉपी डिस्क को जोड़ने के लिए किया जाता है, फ्लफी पोर्ट का इस्तेमाल पुराने मदरबोर्ड में किया जाता था, फ्लॉपी डिस्क का ज्यादा इस्तेमाल न होने के कारण इसे मॉडर्न मदर बोर्ड से हटा दिया गया है।

पीसीआई स्लॉट क्या है?

पेरिफेरल कंपोनेंट इंटरकनेक्टर स्लॉट जिसे पीसीआई स्लॉट कहा जाता है का इस्तेमाल मदरबोर्ड में अलग-अलग प्रकार के कंपोनेंट को आपस में जोड़ने के लिए किया जा सकता है, इस स्लॉट का इस्तेमाल मदरबोर्ड में रैम लगाने के लिए किया जा सकता है। sound card, capture card

एजीपी पोर्ट क्या है?

एजीपी पोर्ट यानी एक्सीलरेटेड ग्राफिक पोर्ट मदरबोर्ड में मौजूद एक ऐसा पोर्ट होता है जिसका इस्तेमाल ग्राफिक कार्ड को मदर बोर्ड से जोड़ने के लिए किया जा सकता है, ग्राफिक कार्ड के कारण कंप्यूटर में बेहतर ग्राफिक्स देखे जा सकते हैं।

हीट सिंक – हीट सिंक मदरबोर्ड का एक भाग होता है जोकि मदरबोर्ड को ज्यादा गर्म होने से बचाता है, हीट सिंक में खास प्रकार के मटेरियल का इस्तेमाल किया जाता है जो कि गर्मी को सोख सकते हैं।

पावर कनेक्टर क्या है?

मदरबोर्ड और मदरबोर्ड से जुड़े सभी हार्डवेयर कंपोनेंट को काम करने के लिए पावर की आवश्यकता होती है, पावर कनेक्टर एक ऐसा पोर्ट है जिस पर पावर कनेक्टर केबल का इस्तेमाल कर मदर बोर्ड को पावर दी जा सकती है, इसी के कारण मदरबोर्ड से जुड़े सभी कंपोनेंट काम कर पाते हैं।

सीपीयू सॉकेट क्या है?

सीपीयू सॉकेट एक ऐसा सॉकेट होता है जिस पर प्रोसेसर को लगाया जाता है, यह मदरबोर्ड का सबसे नाजुक सॉकेट होता है। प्रोसेसर लगाते वक्त इस सॉकेट का इस्तेमाल सावधानी से किया जाना चाहिए।

Share Market क्या होता है।(Stock Market Kya होता है।) आरबीआई एमपीसी (RBI Monetary Policy)

मदर बोर्ड के प्रकार

आज के समय में बाजार में बहुत से ऐसे कंप्यूटर और अन्य डिवाइस है जिनमें मदरबोर्ड का इस्तेमाल किया जाता है, मदरबोर्ड भी अलग-अलग प्रकार की होती हैं। वैसे तो मदरबोर्ड में उपलब्ध है अलग-अलग प्रकार के कंपोनेंट और पोर्ट के अनुसार मदरबोर्ड को अलग-अलग भागों में बांटा गया है लेकिन मुख्य रूप से मदर बोर्ड के दो ही प्रकार होते हैं, मदर बोर्ड के दोनों प्रकारों के बारे में नीचे जानकारी दी गई है –

इंटीग्रेटेड मदर बोर्ड

इंटीग्रेटेड मदरबोर्ड एक ऐसा मदरबोर्ड होता है जिसमें इस्तेमाल की गई प्रिंटेड सर्किट बोर्ड में सीपीयू, वीडियो कार्ड, ऑडियो कार्ड, ग्राफिक कार्ड और भी अन्य बहुत से कंपोनेंट जुड़े हुए होते हैं। इंटीग्रेटेड मदरबोर्ड का इस्तेमाल ज्यादातर लैपटॉप या फिर अन्य छोटे इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस में किया जाता है। इंटीग्रेटेड मदरबोर्ड का साइज और कीमत नॉन इंटीग्रेटेड मदरबोर्ड से कम होती है और इस मदरबोर्ड में कंपोनेंट को आसानी से अपग्रेड नहीं किया जा सकता है।

नॉन इंटीग्रेटेड मदरबोर्ड

नॉन इंटीग्रेटेड मदरबोर्ड का साइज इंटीग्रेटेड मदरबोर्ड से बड़ा होता है, नॉन इंटीग्रेटेड मदरबोर्ड में अलग-अलग कंपोनेंट और एक्सपेंशन कार्ड को इस्तेमाल करने के लिए सॉकेट दिए गए होते हैं। नॉन इंटीग्रेटेड मदरबोर्ड में ज्यादातर कंपोनेंट को बदलना और अपग्रेड करना आसान होता है।

दरबोर्ड कैसे काम करता है?

मदरबोर्ड कंप्यूटर का सबसे जरूरी भाग होता है जिसमें पावर सप्लाई केबल के माध्यम से पावर दी जाती है, इसके बाद प्रिंटेड सर्किट बोर्ड पर मौजूद छोटे-छोटे सर्किट की सहायता से मदरबोर्ड में लगे माइक्रोप्रोसेसर और अन्य कंपोनेंट तक पावर सप्लाई की जाती है जिससे वे सभी कंपोनेंट काम कर पाते हैं। मदरबोर्ड से जुड़े बहुत से कंपोनेंट में एलईडी लाइट लगी होती हैं जिनसे यह पता चलता है कि यह कंपोनेंट अच्छे से काम कर रहे हैं। यह एलईडी लाइट एक प्रकार से इंडिकेटर का काम करती हैं और मदर बोर्ड द्वारा पावर सप्लाई को दर्शाती है। मदरबोर्ड में लगे प्रोसेसर और सीपीयू हार्डवेयर के द्वारा भेजी गई जानकारी को इकट्ठा करके मदर बोर्ड से जुड़े मॉनिटर पर दर्शाते हैं।

Free Fire Redeem Code 29 December 2021 | Garena Redeem Code Today

मदरबोर्ड में सीपीयू सॉकेट क्या है?

मदरबोर्ड में अक्सर एक चौकोर भाग दिखाई देता है जिसमें बहुत से छोटे-छोटे छेद दिखाई पड़ते हैं, मदर बोर्ड का यह भाग सीपीयू सॉकेट होता है जिसे प्रोसेसर सॉकेट के नाम से भी जाना जाता है। इस सॉकेट का इस्तेमाल मदर बोर्ड में प्रोसेसर को लगाने के लिए किया जाता है। मदरबोर्ड में सीपीयू सॉकेट का इस्तेमाल करके पुराने प्रोसेसर को किसी नए प्रोसेसर से बदला जा सकता है जिसके कारण कंप्यूटर की प्रोसेसिंग बेहतर बनाई जा सकती है। प्रोसेसर और सीपीयू सॉकेट दोनों ही बहुत नाजुक होते हैं, अगर आप सीपीयू सॉकेट में नए प्रोसेसर को लगाना चाहते हैं तो इसके लिए आपको नीचे दिए हुए स्टेप्स को ध्यान पूर्वक पढ़ना होगा और फॉलो करना होगा –

स्टेप 1– सीपीयू बदलने की प्रक्रिया में सबसे पहले आपको मदरबोर्ड को खोलना होगा उसके बाद आपको मदर बोर्ड में जुड़े सीपीयू फैन के पावर सप्लाई को बाहर निकलना होगा।

स्टेप 2– पावर सप्लाई निकालने के बाद आपको सीपीयू फैन को हटाना होगा और सावधानी से सीपीयू सॉकेट में दी गई डंडी की सहायता से सीपीयू को अनलॉक करना होगा।

स्टेप 3– सीपीयू अनलॉक करने के बाद सीपीयू के ऊपर बनाई गई क्लिप को उठा ले और सावधानी से सीपीयू बाहर निकाल ले।

स्टेप 4- सीपीयू बाहर निकालने के बाद नया सीपीयू ले और उसे सावधानी से सीपीयू सॉकेट में लगाएं, सीपीयू लगाते वक्त सीपीयू पर और मदर बोर्ड पर बने ऐरो के निशान का मिलना जरूरी है।

स्टेप 5– इसके बाद क्लिप लगा दें और डंडे की सहायता से सीपीयू सॉकेट को लॉक कर दे।

स्टेप 6- इसके बाद आप सीपीयू के ऊपर हीट सिंक पेस्ट लगा सकते हैं या इस पेस्ट का इस्तेमाल सीपीयू फैन के निचले भाग में भी किया जा सकता है।

स्टेप – अंत में सीपीयू फैन लगा दें और उसे पावर सप्लाई से कनेक्ट कर दें।

कुछ जरूरी प्रश्न

मदरबोर्ड का दूसरा नाम क्या है?

मदरबोर्ड किसी भी इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस में इस्तेमाल किया जाने वाला सबसे जरूरी भाग होता है, मदर बोर्ड के इस्तेमाल से ही कोई भी डिवाइस अच्छी तरह से कार्य कर पाता है। मदर बोर्ड को पीसीबी( प्रिंटेड सर्किट बॉक्स), मेन बोर्ड, लॉजिक बोर्ड आदि नामों से भी जाना जाता है। मदरबोर्ड में बहुत से कंपोनेंट को जोड़ा जा सकता है। मदरबोर्ड में अलग-अलग कंप्लेंट को जोड़ने के लिए अलग-अलग प्रकार के पोट, सॉकेट और स्लॉट होते हैं। मदरबोर्ड एक प्रकार का सर्किट बॉक्स होता है जिस पर अलग-अलग कंपोनेंट के लिए कुछ कोड प्रिंट होते हैं जिसके कारण इसे पीसीबी भी कहा जाता है।

मदरबोर्ड कितने प्रकार के होते हैं?

मदरबोर्ड के बहुत से प्रकार हैं लेकिन मदर बोर्ड को दो मुख्य भागों में बाटा गया है, इंटीग्रेटेड मदरबोर्ड और नॉन इंटीग्रेटेड मदरबोर्डइंटीग्रेटेड मदरबोर्ड वह मदरबोर्ड होते हैं जिनमें बहुत से कंपोनेंट को एक साथ जोड़ दिया जाता है जिसके कारण उन कंपोनेंट को जोड़ने वाले स्लॉट या पोर्ट की आवश्यकता नहीं होती है। इंटीग्रेटेड मदरबोर्ड में बहुत कम जगह में ही ज्यादातर कंपोनेंट आ जाते हैं जिसके कारण इसका साइज छोटा होता है और इसे छोटे डिवाइसों में इस्तेमाल किया जाता है वही नॉन इंटीग्रेटेड मदरबोर्ड ऐसे मदरबोर्ड होते हैं जिनमें सभी प्रकार के कंपोनेंट के लिए स्लॉट और पोर्ट मौजूद होते हैं। नॉन इंटीग्रेटेड मदरबोर्ड में अधिक पीसीआई स्लॉट, ग्राफिक कार्ड स्लॉट और रैम स्लॉट होते हैं जिसके कारण इसका साइज बड़ा होता है।

मदरबोर्ड कैसे बनता है?

मदरबोर्ड के बनने की प्रक्रिया बहुत ही शानदार होती है, मदरबोर्ड बनाने की प्रक्रिया मे सबसे पहले एक खास मटेरियल से बने बोर्ड का इस्तेमाल किया जाता है, इस बोर्ड पर एक प्रिंटर की सहायता से अलग अलग सर्किट के लिए निशान बनाए जाते है और इसके बाद अलग अलग प्रकार की मशीनों के इस्तेमाल इस इस पीसीबी पर कॉम्पोनेन्ट को जोड़ा जाता है। इसके बाद मदरबोर्ड को कंप्यूटर के अलग अलग भागो को जोड़ा जा सकता है या फिर इसे पैक कर बेचा जा सकता है।

निष्कर्ष

इस आर्टिकल में कंप्यूटर के सबसे जरूरी भाग अर्थात मदरबोर्ड के बारे में बहुत सी उपयोगी जानकारी दी गई है, इस आर्टिकल के माध्यम से मदरबोर्ड के प्रकार, मदरबोर्ड मैं उपलब्ध अलग-अलग पार्ट, और इससे जुड़े अन्य विषयों के बारे में बताया गया। मैं उम्मीद करता हूं कि आपको इस आर्टिकल के द्वारा दी गई जानकारी आसानी से समझ में आई होगी, अगर आप इस आर्टिकल से जुड़े अपने विचार हम तक पहुंचाना चाहते हैं तो आप कमेंट बॉक्स का इस्तेमाल कर सकते हैं।

2 thoughts on “मदरबोर्ड क्या है? MOTHERBOARD IN HINDI?”

Leave a Comment